Followers

Google+ Followers

Saturday, 13 July 2013

दिन भी क्या दिन आया,

@ 2013 बस यादें सिर्फ यादें ...............
दिन भी क्या दिन आया,
कुछ खुशियाँ तो कुछ दुःख लाया,
पाने को तो सबने पाया,
खोने का दुःख बस मेने पाया । 
दिखा वो अजीब सा एक साया,
जिसके पीछा किया पर
कुछ न पाया,
अपने खाली हाथो को देख
मैं यूँ फर्माया
पाने को तो सबने पाया,
खोने का दुःख बस मेने पाया । 
उस दिन दिल मैं
उदासी का ही रहा मौसम छाया, 
आने की कोशिश की बाहर पर
खुद को अपना ही गवाह न पाया,
जिसे देख मैं था
रोया और बिखलाया,
पाने को तो सबने पाया,
खोने का दुःख बस मेने पाया । 
अगर वो पल हो जाता मेरा,
ख़ुशी-ख़ुशी सबको बताता,
अपना पल उसको समझकर खूब हर्षाता,
सोचता
पाने को तो सबने पाया,
खोने का दुःख बस मेने पाया ......................
::::::::::::नितीश श्रीवास्तव :::::::::::::

1 comment:

  1. दुःख बहुत भरी होता है, सटीक अभिव्यक्ति

    ReplyDelete