Followers

Google+ Followers

Wednesday, 21 August 2013

चाहे जिन्दगी कल किसी भी मोड पे ले जाये















@ 2013 बस यादें सिर्फ यादें ...............
चाहे जिन्दगी कल किसी भी मोड पे ले जाये,
लेकिन ये दोस्त हमेशा याद आयेगें,
चाहे कल कितनी भी खुशी मिल जाये,
लेकिन वो पल हमेशा रूलायेगें,
वो यारो का मिलना,
वो मिल के झगडना,
वो साथ में खाना,
वो रेस लगाना,
वो सीटियाँ मारना,
फिर जल्दी से भागना,
वो कपडो की अदला बदली,
वो रात भर भटकना,
वो एक गाडी पर चार का लटकना,
वो सिगरेट के छल्ले,
वो कैन्टीन के हल्ले,
वो टीचर्स की क्लास लेना,
वो कमीनो की सेना,
शायद हम वो दिन फिर कभी नही जी पायेगें,
वो पल हमें बहुत रूलायेगें..................

चाहे जिन्दगी कल किसी भी मोड पे ले जाये,
लेकिन ये दोस्त हमेशा याद आयेगें,
चाहे कल कितनी भी खुशी मिल जाये,
लेकिन वो पल हमेशा रूलायेगें,
वो यारो का मिलना,
वो मिल के झगडना,
वो साथ में खाना,
वो रेस लगाना,
वो सीटियाँ मारना,
फिर जल्दी से भागना,
वो कपडो की अदला बदली,
वो रात भर भटकना,
वो एक गाडी पर चार का लटकना,
वो सिगरेट के छल्ले,
वो कैन्टीन के हल्ले,
वो टीचर्स की क्लास लेना,
वो कमीनो की सेना,
शायद हम वो दिन फिर कभी नही जी पायेगें,
वो पल हमें बहुत रूलायेगें..................
::::::::::::नितीश श्रीवास्तव :::::::::::::

2 comments:

  1. वाह सुंदर , बीते दिन याद आ गए

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज वृहस्पतिवार (22-06-2013) के "संक्षिप्त चर्चा - श्राप काव्य चोरों को" (चर्चा मंचः अंक-1345)
    पर भी होगी!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete